ट्रेडिंग कैसे सीखें आसान भाषा में – ऑपशन ट्रेडिंग कैसे करते है

Trading ये शब्द आपने कभी न कभी सुना होगा। एक Trader यानी यैसा इंसान जो चीज़ो को खरीदता है बेचने के लिए। ये तो आपको जरूर पता होगा। मार्किट में बहुत से लोग होते है वह चीज़ो को सस्ते में खरीदते है और उन्हें महंगे में बेचते है। बेचने का बाद जो पैसा बचता है वह उनका प्रॉफिट या कभी लॉस होता है।

Share Market में में भी Trading होती है आप किसी भी शेयर को कम भाव में खरीद सकते है और उसकी किंमत बढ़ने के बाद उसे बेच सकते है। अब इसमें भी आपको या तो लॉस हो सकता है या प्रॉफिट पर दोस्तों ट्रेडिंग भी एक यैसी चीज़ है जिससे आप पैसे कमा सकते है।

Stock Trader क्या है?

एक Trader उस इंसान को कहा जाता है जो एक चीज़ को खरीदता है और बेच देता है। आपने किसी भी व्यापारी को देखा होगा वह क्या करता है। किसी भी चीज़ को सस्ते में खरीदता है और महंगे में बेच देता है। Stock Trader भी वैसे ही कुछ होता है पर यहाँ पर वह कंपनी के Shares खरीदता है और बेच देता है। आपको पता ही किसी भी Share की वैल्यू होती है। एक Stock भी ऊपर निचे होता रहता है। एक Trader सस्ते में शेयर खरीदता है और बाद में उसकी किंमत बढ़ने के बाद महंगे में बेच देता है। जो बेचने के बाद Profit होता है उसमें से ब्रोकरेज को हटा दिया तो वह Trader की कमाई है।

ट्रेडिंग किसमें होती है?

ट्रेडिंग किसमें होती है? ये सवाल काफी कॉमन है वैसे तो आप बाजार में देखते है की किसी भी चीज़ जिसकी प्राइस कम ज्यादा होती है उसकी Trading होती है। पर आज मैं सिर्फ Share Market की Trading की बात करूँगा मैं आपसे कुछ Trade की बात करूँगा जो शेयर बाजार में होते है। दोस्तों मैं कोई प्रोफेसनल नहीं हु शेयर मार्किट ये सब इनफार्मेशन सिर्फ Information Purpose के लिए है।

  • Intraday Trading

Intraday Trading ये ट्रेडिंग भारत में सबसे ज्यादा लोकप्रिय है। Intraday में आपको किसी एक कंपनी का share खरीदना होता है। पर इसमें एक शर्त होती है की आप उस share को आज ही बेच सकते है। मतलब आपको शेयर को उसी दिन खरीद बेच करना पड़ता है। यैसे में आपको इसमें प्रॉफिट या लॉस एक दिन में ही हो सकता है।

Intraday Trading की एक बात अच्छी है की आपको इसमें आपके ब्रोकर की तरफ से Margin मिलता है ट्रेडिंग के लिए। यैसे में आपके पास ज्यादा पैसे नहीं है फिर भी आप Intraday Trade कर सकते है। पर अगर आपको लॉस होता है तो Margin पर भी लॉस हो सकता है।

  • Options and Future Trading

Options ट्रेडिंग भी बहुत लोग करते है इसमें आपको प्रॉफिट बहुत जल्दी होता है। Options Trading में Trade करते है Stocks में फ्यूचर पर मतलब आपको लगता है किसी कंपनी का STOCK ऊपर जाने वाला है पर आपके पास अभी पैसे नहीं है। तो यैसे में आप Options Trading से एक उन्हें एक टोकन अंक दे कर उन्हें कम किंमत में खरीद सकते है। यैसे में अगर उस कंपनी शेयर ऊपर जाता है तो आपको प्रॉफिट होता है।

पर दोस्तों Options Trading बहुत ज्यादा Risky है। इसमें आपको प्रॉफिट की कोई लिमिट नहीं है पर लॉस आपका लिमिटेड है। इसमें और है जैसे आपको Call option खरीदना है या Put Option आप इस चीज़ की और स्टडी कर सकते है। बस मेरा काम है आपको इसकी जानकरी देना।

ट्रेडिंग कैसे सीखें हिंदी में

दोस्तों, Share Market में दो चीज़ होती है एक है Trading और दूसरी है Investment. Trading करने के लिए आपको Technical Analysis आना जरूरी है। Investment में कंपनी के Fundamental देखते है जैसे कंपनी की बैलेंस शीट,प्रॉफिट लोस्स स्टेटमेंट,EPS,कंपनी का रिकॉर्ड कंपनी के मैनेजमेंट कैसा है।

पर Trading एक शार्ट टर्म चीज़ है इसमें फंडामेंटल एनालिसिस काम नहीं करता। आपको कंपनी के चार्ट को देखना पड़ता है की कंपनी का Trend लाइन कहा जा रही है। तो इसमें आपको Technical Analysis काम करती है।

ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट में क्या अंतर है

ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट बहुत ज्यादा अंतर है। ट्रेडिंग में आप पैसे बहुत कम समय के लिए लगाते है जैसे एक दिन दो दिन एक हफ्ता या महीना। पर वही एक इन्वेस्टर पैसे लगाता है वह ज्यादा समय तक उन्हें इन्वेस्ट करके रखता है जैसे १ साल ५ साल १० साल और कही बार तो पूरी ज़िन्दगी भर।

ट्रेडिंग में आपको पैसे बहुत कम समय में वापस मिलते है वही इन्वेस्टमेंट में आपको समय लगता है। पर ट्रेडिंग में पैसे गवाए भी बहुत जल्दी जाते है वही इन्वेस्टमेंट में अगर आपने कंपनी के फंडामेंटल देख कर पैसे लगाए है तो बहुत कम संभवाये है की आपके पैसे डूबे।

ट्रेडिंग आप बहुत कम पैसो से भी सुरु कर सकते है। बहुत ब्रोकर इंट्राडे के लिए मार्जिन देते है तो आपके पास अगर कम भी पैसे है तो ट्रेडिंग कर सकते है। इन्वेस्टमेंट भी आप कम पैसो के साथ सुरु कर सकते है। पर इन्वेस्टमेंट में आपको अच्छी धन राशि चाहिए तभी आप लॉन्ग टर्म में पैसे बना सकते है।

टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है – technical analysis kya hota hai

Technical Analysis एक ट्रेडर के लिए बहुत ज्यादा जरूरी है। Technical Analysis से आप किसी भी कंपनी के स्टॉक को प्रिडिक्ट कर सकते है की वह ऊपर जायेगा या निचे। Technical Analysis में आपको कंपनी के चार्ट में कैंडल दिखती है। उस कैंडल से आपको ये पता छलकता है की आपका मार्केट कोनसे ट्रेंड में है। अगर कैंडल Higher High एंड Higher Low लगाता है उसे हम Uptrend कहते है। अगर कैंडल Lower High एंड Lower Low लगता है तो आपका मार्केट Downtrend आता है। अगर कैंडल एक पैटर्न में मूव हो मतलब न तो मार्केट ऊपर जा रहा है और ना ही निचे तो उसे Sideways Trend में होता है।

Technical Analysis में इंडिकेटर होते है उन्हें इस्तेमाल करके आप मार्केट का ट्रेंड देख कर एक अंदाज लगा सकते है की यहाँ से मार्केट कहा जाने वाला है। कोई भी आपको ये नहीं बता सकता की यहाँ से मार्केट ऊपर या निचे जायेगा Technical Analysis से आप एक इनसाइट ले सकते है।

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करते है – intraday trading kaise karte hai

इंट्राडे डे इसके नाम से ही आपको पता चल गया होगा की आज खरीद कर आज ही बेचना। इंट्राडे में आप किसी स्टॉक को आज ही खरीद कर बेच देते है। ये आपका ट्रेड उसी दिन सुरु होता है उसी दिन ख़तम। इसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहा जाता है। इंट्राडे में आप स्टॉक खरीद या शार्ट सेल करके बेच सकते है। इंट्राडे में आपको आपके ब्रोकर के तरफ से भी फ्री मार्जिन मिलता है। इंट्राडे करने के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी है। आप शेयर खरीदते समय वहा इंट्राडे ऑप्शपन पर क्लिक कर इंट्राडे ट्रेडिंग कर सकते है।

इंट्राडे ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाए – intraday trading se paise kaise kamaye

इंट्राडे में पैसे कमाने के लिए आपको चार्ट और टेक्निकल एनालिसिस आना जरूरी है। आपको मार्केट का कल का पिछले कुछ दिनों ट्रेंड कहा जा रहा है ये समझना जरूरी है। इंट्राडे में 2%,3% परसेंट का आपको मुनफा मिल सकता है वह भी डेली।

ट्रेडिंग के नुकसान क्या है

दोस्तों लोग आपको ट्रेडिंग फायदे बताते है। इसके नुकसान कोई नहीं बताता पर इसमें नुकसान ये है की आपको Mental Pressure बढ़ता है। ट्रेडिंग में आपकी मन की शांति पूरी तरह चली जाती है। Trading में सबसे ज्यादा आपको अपने भावनाओं पर काबू करना होता है।

ट्रेडिंग से कितने पैसे कमाए जा सकते है

No Limit कोई लिमिट नहीं है। ट्रेडिंग में आप पर है आप कितने पैसो का ट्रेड करते है। मैं कोई भी अंक नहीं बोलूंगा किउ इसमें कुछ भी पॉसिबल है। आप कभी प्रॉफिट लोगे तो कभी लोस्स ये सब आप पर है।

डे ट्रेडिंग में पैसा लगाने से पहले क्या करना चाहिए

डे ट्रेडिंग में में आपके पास समय कम होने के कारण आपको डे ट्रेड करने से पहले स्टॉक को चुनना आना चाहिए। आपको मार्किट सुरु होने से पहले स्टॉक सेलेक्ट और उसी समय उसका स्टॉप लॉस ध्यान में रखना है। जैसे कुछ लोग मार्किट जब खुलता है मतलब ९.१५ से ११ बजे तक ट्रेड मारना पसंद करते है तो ये सब चीज़ आपको मार्किट सुरु होने से पहले करनी है। ध्यान दे की जल्द बाज़ी में अपना स्टॉप लोस्स लगाना मत भूल जाना। स्टॉप लोस्स बहुत ज्यादा जरूरी चीज़ है।

ट्रेडिंग के लिए Demat Account कैसे खोले

आपको Trading करने के लिए सबसे पहले एक Demat and Trading अकाउंट खोलना पड़ेगा। मैं खुद Upstox इस्तेमाल करता हु। Trading अकाउंट खोलने के लिए आपको PAN CARD,AADHAR CARD,Mobile Number की जरूरत होती है। आप ये अकाउंट बड़े आराम से ओपन कर सकते है। Upstox इस्तेमाल करने में काफी आसान है इस लिए आप भी इसे इस्तेमाल कर सकते है।

लिक्विड स्टॉक क्या है

लिक्विड स्टॉक का मतलब ये है आप किसी कंपनी का शेयर कितनी जल्दी खरीद या बेच सकते है। जैसे किसी कंपनी में आपने 200 रूपए के 100 शेयर ख़रीदे और 30 मिनिट के बाद वह 200 को शेयर 210 का हो गया और आपने उसे बेच दिया। तो इसका मतलब उस कंपनी का स्टॉक लिक्विड है। लिक्विड स्टॉक में इन्वेस्ट करने का फायदा ये है की आप उसे जब चाहिए तब बेच कर अपने पैसो ले सकते है।

ऑपशन ट्रेडिंग कैसे करते है – option trading kaise karte hain

आप स्टॉक्स में निफ़्टी बैंक निफ़्टी में ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते है। इसके लिए आपको एक डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी। आप अपने ब्रोकर से इसे सुरु कर सकते है। बस आप भी ऑप्शंस में ट्रेड कर सकते है। ऑप्शंस एक तरह के डेरीवीटीव होते है जो अपनी किंमत दुसरो पर निर्भर करते है। इन्हे आप इस तरह से समजे की आप किसी स्टॉक को फ्यूचर में खरीदना चाहते है। आपको पता है की उसकी किंमत आगे फ्यूचर में बढ़ने वाली है। तो आप उस स्टॉक्स का निफ़्टी बैंक निफ़्टी का ऑप्शन उस महीने या हफ्ते का खरीद सकते है।

Read More:

ट्रेडिंग कैसे सीखें इन मराठी

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है?

डिलीवरी ट्रेडिंग का मतलब आप किसी स्टॉक को आज न बेचना चाहकर उसे होल्ड करना चाहते है। आप उसे फिर कल या फिर कभी भी बेच सकते है यैसे में उसे आप डिलीवरी ट्रेडिंग कह सकते है।

शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं?

सुरुवात में आप कम पैसे लगाए जैसे आप ५ हज़ार से सुरु करके ट्रेडिंग कर सकते है। ६ महीने के लिए आप ५ हज़ार से तारदे करे बाद में आप सिख जाते है तो बढ़ा भी सकते है

Leave a Comment