स्टीव जॉब्स की सफलता की कहानी – Apple कंपनी कैसे सुरु हुई

नमस्कार दोस्तों, आज हम एक यैसे इंसान की सफलता की कहनी सुनने वाले है। जिन्हे दुनिया का सबसे बड़ा खोजकर्ता माना जाता है। उनका नाम है स्टीव जॉब्स जी है दोस्तों आज हम जानने वाले है एप्पल कंपनी के फाउंडर स्टीव जॉब्स के बारेमे। हम जानेगे की कैसे उन्होंने एप्पल कंपनी सुरु की और कैसे एप्पल इतनी सफल बनी।

स्टीव जॉब्स का जन्म 24 February 1955 को यूनाइटेड स्टेट में हुआ। उन्हें बचपन से ही पढाई में काफी रूचि थी वह हमेशा अपने दो क्लास आगे के बच्चो जितना समझते थे। उनके टीचर भी उनके माता पिता से कहते थे की स्टीव को अगले क्लास में बैठने दे वह पढाई में थे ही काफी हुशार थे।

Stev-Jobs-Success-Story-in-Hindi

स्टीव जॉब्स का सुरुवाती जीवन

स्टीव जॉब्स अपने पापा के गेराज में उन्हें मदत करने जाया करते थे। बाद में उन्होंने १२ कक्षा के बाद एक Reed College में अड्मिशन ली। उन्होंने कुछ समय तो कॉलेज में पढाई की पर बाद में उन्होंने कॉलेज छोड़ने का फैसला किया। इसका कारण वह ये बताते है की जो पैसे उनके माता पिता ने उनके पढाई में लगाए थे उनकी उन्हें कोई वैल्यू होती हुई नहीं दिखी।

जब हन्होंने कॉलेज छोड़ा तो उन्हें उस टाइम पर थोड़ा डर लगा था। उन्होंने उसी समय पर कैलीग्राफी भी सीखी थी जो उन्हें नहीं समज आया की वह किउ पढ़ रहे है। पर बाद में उन्होंने एक स्पीच में बताया की उस कैलीग्राफी की वजह से उन्हें Machintosh में फोंट्स की प्रेरणा मिली।

जब उन्होंने कॉलेज छोड़ा तो उनके पास पैसो की काफी कमी थी। उन्होंने कोक की खाली बोतल को बेच कर भी पैसे कमाए है। वह फ्री का भोजन करने के लिए हरिकृष्ण मंदिर जाते थे। वह उसी समय भारत में भी आये थे उनके सुरु बाबा नीम करोली से मिलने। पर उस वक़्त तक बाबा नीम करोली का मृत्यु हुआ था। पर उन्होंने भारत में रहे कर अध्यत्म की प्रैक्टिस की। उन्हें भारत में काफी अच्छा लगा ये बात है १९७5 के आस पास की बाद में उन्होंने अमेरिका में जा कर Apple की सुरुवात की।

एप्पल कंपनी कैसे शुरू हुई

स्टीव जॉब्स बाद में अपने दोस्त स्टीव वॉजनियाक के साथ मिल कर १९७५ में एप्पल की सुरुवात की। सुरु में कंपनी के पास पैसे नहीं थे इस लिए स्टीव जॉब्स उनकी कार उनके दोस्त उनका टाइपराइटर बेच कर कंपनी सुरु की। बाद में १९८० के आसपास कंपनी का आईपीओ आया वह आईपीओ काफी सफल रहा उनके एप्पल की वैल्यूएशन काफी तेज़ी से बढ़ी। उसके स्टीव जॉब्स एक दिन पेप्सी के सीईओ जॉन कली से मिले। स्टीव जॉब्स को लगा जॉन कली को कंपनी में लेंगे तो कंपनी अच्छे से ग्रो कर सकती है।

बाद में जॉन कली पेप्सी छोड़ कर एप्पल में आये सुरुवात के दिन में काफी अच्छा रहा सब कुछ।सुरुवात में सब कुछ अच्छा रहा एप्पल ने कुछ कंप्यूटर लॉच किये जो की मार्किट में काफी अच्छा कर रहे थे। पर बाद में स्टीव जॉब्स में और जॉन कली में कुछ बहस के कारण जॉन कली ने अपने साथ बोर्ड मेंबर को लेकर स्टीव जॉब्स को कंपनी के बहार निकाल दिया। स्टीव जॉब्स जिस कंपनी को सुरु किया उसी कंपनी से उन्हें निकाला गया। उन्होंने कहा उस वक़्त उन्हें काफी बुरा लगा। पर स्टीव जॉब्स ने हार न मान कर दूसरी कंपनी सुरु की जिसका नाम था नेक्स्ट ये एक सॉफ्टवेयर की कंपनी थी। बाद में उन्होंने वीडियो एनीमेशन कंपनी Pixar को भी बनाया।

१९९७ में आखिर तक एप्पल कंपनी डूबने के कगार पर थी। कंपनी कंप्यूटर से हट कर और भी बाकि सामान बेचने में लगी थी। बाद में कंपनी के बोर्ड मेंबर्स ने फैसला लिया की वह स्टीव जॉब्स को वापस सीईओ के रूप में कंपनी में वापस लाएंगे। बाद में एप्पल ने स्टीव जॉब्स की कंपनी नेक्स्ट और पिक्सर को खरीद लिया। स्टीव जॉब्स वापस एप्पल में आये बाद में उन्होंने देखा की कंपनी कंप्यूटर से हट कर बाकी सामान बेचने में लगी हुई थी।

उन्होंने सब सामान बंद करके डाटा के अनुसार सिर्फ कुछ सामान रखा। उन्होंने कहा की हमे सब कुछ नहीं बेचना है। बाद में २००१ में एप्पल IPOD लांच किया जो की फिर से एप्पल के लिए अच्छा साबित हुआ। Ipod ने रेडियो मार्केट में काफी अच्छी सेल की उस टाइम अप्पके कंपनी को हर कोई जानने लग रहा था। बाद में उन्होंने अपने Macbook को भी लांच किया जो की आज भी एप्पल काफी अच्छा प्रोडक्ट है।

अब टाइम बदल रहा था अब स्मार्टफोन का जमाना आने वाला था। उस टाइम पर भी स्मार्टफोन हुआ करते थे पर वह इतने एडवांस नहीं थे। तब एप्पल के नए प्रोडक्ट Iphone पर काम करना सुरु किया था। २००७ में पहला iphone लांच हुआ जो की पूरी टच स्क्रीन के साथ आया। उसमे के भी बटन नहीं था लोगो के लिए भी ये एक नया फ़ोन था। iphone ने एप्पल एक अलग मुकाम पर पहुंचा दिया। अब एप्पल दुनिया में सबसे बड़े कंपनी में से कंपनी थी।

इस तरह उन्होंने लोगो के लिए बड़ी स्क्रीन का अनुभव देने के लिए Ipad लांच किया। Ipad में लोग न्यूज़ पेपर,वीडियोस कुछ भी देख सकते थे। एप्पल ने हमेशा अपने कस्टमर की मन की बात को पूरा किया है।

स्टीव जॉब्स के सफलता का राज़ क्या है

स्टीव जॉब्स समय समय समय पर अच्छे प्रोडक्ट्स बनते गए। कुछ सफल हुए कुछ नहीं हुए पर उन्होंने सिर्फ एक चीज़ पर फोकस किया की मुझे सबसे अच्छे प्रोडक्ट्स बनाने है जो मैं गर्व से बेच सकू। उन्होंने हमेशा एक अच्छा प्रोडक्ट बनाने में ध्यान दिया है। उन्होंने हर प्रोडक्ट के साथ लोगो की बर्निंग प्रॉब्लम सॉल्व की है। इस कारन स्टीव जॉब्स एक सफल इंसान है।

स्टीव जॉब्स कोट्स हिंदी – Stev Jobs Quotes in Hindi

You can’t connect the dots looking forward; you can only connect them looking backwards. So you have to trust that the dots will somehow connect in your future.

Innovation distinguishes between a leader and a follower

Sometimes when you innovate, you make mistakes. It is best to admit them quickly, and get on with improving your other innovations.

Stay hungry, stay foolish.

Read Also:

Leave a Comment